ads banner
ads banner
ads banner
ads banner
ads banner
ads banner
होमसमाचारइंग्लिश प्रीमियर लीग न्यूज़सलाह भले अभी लिवरपूल मे है लेकिन सऊदी क्लब उनके पीछे रहेंगे

सलाह भले अभी लिवरपूल मे है लेकिन सऊदी क्लब उनके पीछे रहेंगे

सलाह भले अभी लिवरपूल मे है लेकिन सऊदी क्लब उनके पीछे रहेंगे

सलाह भले अभी लिवरपूल मे है लेकिन सऊदी क्लब उनके पीछे रहेंगे। लिवरपूल के लिए सही मे बहुत बड़ी राहत की साँस ली है। पर लेकिन सऊदी उनका पीछा नही छोड़ने वाले है। सऊदी क्लब अल इत्तिहाद ने लिवरपूल से सलाह को लेने के लिए 100 मिलियन यूरो का औफर दिया था, जो सायद एक रेकॉर्ड हो सकता था, लेकिन लिवरपूल जानते है कि वो अपने कही बेहतरीन खिलाडी खो चुके है और इस समय उनके पास एक बेहतरीन खिलाडी अगर कोई है तो वो सलाह है।

किसी तरह से चुटि जान

इस गुरुवार को सऊदी क्लब ट्रांसफर विंडो बंद हो गया इस बात की खुशी भले किसी क्लब को हो या न हो लेकिन प्रीमियर लीग की लिवरपूल टीम को एक बहुत बड़ी राहत का विषय मे से एक है। क्यूँकि जिस हाल मे लिवरपूल अभी है वे अभी किसी भी खिलाडी को खोना पसंद नही करेंगे। सऊदी क्लब अल इत्तिहाद ने कुछ दिनों पहले एक औफर लिवरपूल को भेजा था, जहाँ वे सलाह के लिए 100 मिलियन की ट्रांस्फर फी का  भुगतान करने लिए तयार है।

इस चीज ने लिवरपूल के खेमे को तो मानो पुरी तरह से हिला दिया था। क्यूँकि लिवरपूल पहले से कहीं नामी खिलाडियों को खो चुका था और उपर से अगर वे सलाह को खो देते है तो लिवरपूल के लिए खडा हो पाना मुश्किल हो जाएगा, लेकिन सलाह ने लिवरपूल के साथ रहने की बात पक्की कर दी यहाँ तक वे भी क्लब नही छोड़ना चाहते है। लेकिन कुछ ही दिनों बाद सऊदी क्लब ने 150 मिलियन क्लब का सौदा दे दिया। मानो लिवरपूल के उपर एक भोज ही खडा कर दिया हो। लेकिन उन्होंने उसे भी इंकार कर दिया।

पढ़े : जेनी हर्मोसो वर्ल्ड कप जीत के बाद मेक्सिको पहुँची

अभी सब खत्म नही हुआ है बस लगा है विश्राम

बले कोई कितना भी कह दे लेकिन लिवरपूल को ये दो हफ्ते सबसे कष्ट दाई समय रहा होगा, किसी तरह से उन्होंने सऊदी क्लब के 150 मिलियन के औफर को टुकराया है। इस पर सऊदी क्लब का कहना है, हम लिवरपूल के प्रति सम्मान बनाए रखना चाहते हैं और एक के बाद एक बोली लगाकर उन्हें परेशान नहीं करना चाहते। लेकिन इसका मतलब ये नही कि हमने अपनी कोशिश छोड़ दी है।

सऊदी क्लब का ट्रांसफ़र विंडो इस गुरुवार को समाप्त हुआ है इसी कारण से वे सलाह की बीड पर रोक लगाए हुए लेकिन ये ज्यादा समय के लिए नही चलेगा, क्यूँकि वे अगले ट्रांसफर विंडो का इंतज़ार करेंगे और किसी भी हाल मे सलाह को सऊदी लीग मे शामिल करके ही रहेंगे।अल इत्तिहाद का रुख यह है कि वे मोहम्मद सलाह पर बीड करना नहीं छोड़ेंगे। दिन के अंत में यही अंतिम बात है, उन्होंने बेहतर प्रस्ताव के साथ वापस जाने से इंकार नहीं किया है।

Satish Kumar
Satish Kumarhttps://footballskynews.com/
मैं फुटबॉल का प्रशंसक हूं और फुटबॉल के बारे में लिखना पसंद करता हूं। मैंने अपनी पसंदीदा टीमों पर एक ब्लॉग पोस्ट लिखा है,

संबंधित फुटबॉल न्यूज़

नवीनतम फुटबॉल न्यूज़