ads banner
ads banner
ads banner
ads banner
ads banner
ads banner
होमसमाचारबुंदेसलिगा समाचारकेविन बेहरेंस बुंडेसलीगा के एक महान खिलाडी

केविन बेहरेंस बुंडेसलीगा के एक महान खिलाडी

केविन बेहरेंस बुंडेसलीगा के एक महान खिलाडी

केविन बेहरेंस बुंडेसलीगा के एक महान खिलाडी, केविन बेहरेंस को किसी आम खिलाडियों के साथ कभी तुलना नही की जा सकती है, उन्होंने लगभग जर्मनी के कही छोटे बड़े टीमो के संग खेल चुके है। कुछ ही दिन पहले इंग्लैंड के कप्तान हैरी केन ने मुनिच के लिए अपना पादरपन किया था। लेकिन बात अभी केन की नही केविन बेहरेंस के बारे मे है जो बुंडेसलीगा लीग के सर्वाधिक गोल स्कोरर मे से एक है।

क्या बनाता है केविन बेहरेंस को सबसे खास

दोनों खिलाडियों ने 30 साल की उम्र में प्रतियोगिता में पदार्पण किया। इन दोनो के बीच अंतर यह है कि बेहरेंस ने पिछले दशक का अधिकांश समय जर्मन फुटबॉल की क्षेत्रीय लीगों में बिताया।बेहरेंस की कहानी सचमुच मे काफी प्रेरणा दायक है। जिन्होंने अपने खेल के चरम मे निचले स्तर के फुटबॉल टीमस के साथ ही अपना वक़्त बिता दिया था।वह बेहरेंस घटना के स्पष्टीकरण के माध्यम से कहते हैं, वह एक पहचान व्यक्ति है। मेनज़ के खिलाफ हेडर की उनकी हैट्रिक, इस सदी में बुंडेसलीगा खेल में ऐसा करने वाले पहले खिलाड़ी हैं।

उनके गोल समय पर हैं क्योंकि यूनियन में बदलाव हो रहा है। अगस्त में, क्लब ने जर्मनी के अंतर्राष्ट्रीय रॉबिन गोसेंस और केविन वोलैंड पर हस्ताक्षर किए। इसके बाद उन्होंने महान इतालवी डिफेंडर लियोनार्डो बोनुची को शामिल किया।बेहरेंस ने इतने सालों के प्रयास को व्यर्थ नही होने दिया है। उन्होंने कहा है कि वो कभी भी इस खेल को छोड़ना नही चाहते थे,चाहे उनके सामने कितनी भी समस्या आ जाए। भले उनकी ये कहानी उनकी बहुत खास है लेकिन इसमे उन्हे ही पता है की उन्हे कितना त्यागना पड़ा।

पढ़े : मे कोई भी नियम नही तोड़ना चाहता हूँ बोले पोग्बा

काफी लंबा है उनका करियर

बेहरेंस ने एक क्लब से दूसरे क्लब में छलांग लगाई, समर्थकों पर जीत हासिल की, लेकिन हमेशा अपने कोचों पर नहीं। अपने शुरुआती दिनों के दौरान उन्होंने कई क्लबों में स्विच किया। जैसे कि प्लेऑफ़ में 1860 म्यूनिख में पदोन्नति से हारने के बाद उन्होंने सारब्रुकन छोड़ दिया। बेशक, चौथी लीग उसके लिए बहुत कम थी। मैंने निश्चित रूप से उसके लिए दूसरी लीग में जाने की क्षमता देखी।सैंडहाउज़ेन में उनके सीज़न ने उन्हें दूसरे स्तर की ताकत के रूप में स्थापित किया।

बुंडेसलीगा में उन पर दांव लगाने के लिए यूनियन की जरूरत पड़ी। किसी खिलाड़ी को 30 के गलत पक्ष से आगे बढ़ने के लिए कहना, यह एक जोखिम प्रतीत होता था। लेकिन वोजोखिम का उन्हें फल भी मिला।अगर वह मैनचेस्टर सिटी के लिए एक फ्रंट के साथ खेल रहे होते और उनके पास स्पेस कम हो, तो यह उसके लिए नहीं है। यूनियन में, वे लंबी गेंदें खेलते हैं और वे उसकी शारीरिक क्षमता का उपयोग करते हैं। यही उनकी गुणवत्ता का सर्वोत्तम उपयोग है। आशा है अपने खेल का संचार और भी आगे करते रहेंगे।

Satish Kumar
Satish Kumarhttps://footballskynews.com/
मैं फुटबॉल का प्रशंसक हूं और फुटबॉल के बारे में लिखना पसंद करता हूं। मैंने अपनी पसंदीदा टीमों पर एक ब्लॉग पोस्ट लिखा है,

संबंधित फुटबॉल न्यूज़

नवीनतम फुटबॉल न्यूज़